Home » Humour » कहने को तो ये 5 स्थान भारत में ही हैं मगर यहां भारतीयों को नहीं है एंट्री

कहने को तो ये 5 स्थान भारत में ही हैं मगर यहां भारतीयों को नहीं है एंट्री

देश मेरा रंगरेज ये बाबू,

घाट-घाट यहाँ घटता जादू।

वाकई हमारे देश में घाट-घाट पर जादू घटता है। यहाँ इंसान को बोलने की आजादी भी है और जब वो बोलता है तो उसकी हत्या भी कर दी जाती है। यहाँ पोर्न पर बैन लगाया जाता है लेकिन जब लोग सड़कों पर उतर आते हैं तो उससे बैन हटा भी दिया जाता है। यहाँ बीफ बैन किया जाता है और कुछ जगहों पर उसे खाने की परमिशन भी दे दी जाती है। यहाँ अचानक से 500 और 1000 के नोट बैन हो जाते हैं और जब ATM के बाहर लोगों को खड़े होने में तकलीफ होती है तो उन्हें यह कहकर चुप कराया जाता है कि, “सेना के जवान भी तो दिन-रात सरहद पर खड़े रहते हैं”।

हमारे देश भारत में आपको कुछ भी देखने और सुनने को मिल सकता है। वैसे आज हम आपको भारत में मौजूद उन जगहों के बारे में बताने वाले हैं जहां पर भारतीय लोग नहीं जा सकते हैं। आपने बिल्कुल ठीक पढ़ा। भारतीय लोग इन स्थानों पर बैन हैं। ऐसा क्यों? यह स्टोरी पढ़कर जानिए।

Uno-In होटल, बैंगलोर

आईटी हब कहे जाने वाले बैंगलोर में 2012 में निपोन इन्फ्रास्ट्रक्चर द्वारा इस होटल को बनाया गया था। इसका मकसद जापानियों को उनकी पसंद का खाना मुहैया कराना था।

इस साल लगा बैन

यहाँ पर शुरुआत में भारतीय लोगों की एंट्री पर बैन नहीं था मगर 2014 में हुए कुछ हादसों के बाद ग्रेटर बैंगलोर सिटी कॉरपोरेशन ने यह कदम उठाया।

फ्री कसोल कैफे

हिमाचल के कसोल में बने इस कैफे में भी भारतीयों की एंट्री पर रोक लगी हुई है।

सिर्फ विदेशियों को मिलती है एंट्री

इस कैफे में पासपोर्ट दिखाने पर ही एंट्री मिलती है। अगर आप इंडियन हैं तो ये रेस्त्रां आपके लिए नहीं है।

गोवा के बीच

गोवा जाना लगभग हर बैचलर की ‘विश लिस्ट’ में शामिल होता है मगर गोवा के कई बीच ऐसे भी हैं जहाँ बनी झोपड़ियों के मालिक भी भारतीयों को एंट्री नहीं देते हैं।

यह है वजह

झोपड़ियों के मालिकों के अनुसार इस बीच पर विदेशी अलग तरह के कपड़े पहनते हैं। ऐसे में भारतीय असहज हो सकते हैं, जिसकी वजह से उन्हें यहाँ से बैन किया गया है।

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.