बॉलीवुड सितारों का यह पुराना फैशन सेंस आपको गुदगुदाएगा

एक मासूम के बाप को एक विलन उसकी आँखों के सामने मार देता है। बच्चे की माँ विधवा हो जाती है। फिर वही विधवा माँ मजदूरी करके अपने बेटे और बेटी को पालती है। फिर अचानक से 20 साल गुजर जाते हैं। हीरो और उसकी बहन दोनों जवान हो जाते हैं। विलन का बेटा भी जूनियर विलन होता है। उसका दिल हीरो की बहन पर आ जाता है, वो उसे छेड़ता है तो हीरो उसे मारता है। थोड़ी तकरार, किडनैपिंग, लव स्टोरी और गानों के बाद हीरो, विलन को मारकर अपना बदला लेता है। फिर स्क्रीन पर ‘The End’ लिखा हुआ आ जाता है। ये 80’s की फिल्मों का बेसिक प्लॉट हुआ करता था।

उस वक्त स्टोरी की तरह आर्टवर्क और कॉस्ट्यूम्स पर भी ज्यादा दिमाग नहीं खपाया जाता था। आज अगर आप उन फिल्मों को अपने फ्रेंड्स के साथ देखें तो सीरियस सीन पर भी आपकी हंसी छूट सकती है। उन्हीं फिल्मों से ली गई कुछ तस्वीरें हम आपके सामने पेश करने जा रहे हैं। आपको ये तस्वीरें जरूर गुदगुदाएंगी।

एक से बेहतर दो

आजकल लड़कों के बीच सिर पर चोटी रखने का चलन जोरों पर है। मगर हमारे ‘मोगैम्बो’ यानी अमरीश पुरी फैशन के मामले में हमसे सालों आगे थे। आज तो लोग एक चोटी रखते हैं मगर वे तो दो चोटियां रखते थे।

इस फैशन को मैं क्या नाम दूँ!

सिर से लेकर पांव तक मिथुन का फैशन देखिये। लम्बी चोटी, गले में गहने और रणवीर सिंह से भी ज्यादा खतरनाक ड्रेस। लगता है कॉस्ट्यूम डिजाइनर ने बहुत मेहनत की है।

मेकअप के नाम पर ऐसा लुक

80’s में मेकअप के नाम पर खतरनाक प्रयोग किये जाते थे। ये तस्वीर इस बात का एक अच्छा उदाहरण है। इसमें समझ नहीं आ रहा कि चहरे पर मेकअप है या मेहँदी लगाई है।

बच्चे की आवाज सुनते दो महान डॉक्टर्स

प्रेग्नेंट महिला के पेट में लड़का है या लड़की, इस बात का पता 80’s के दौर में हीरो उनकी आवाज सुनकर लगा लिया करते थे। ऐसे ही दो महान डॉक्टर्स आपको तस्वीर में नजर आ रहे हैं।

लॉन्ग ड्राइव पे चल

तब स्वैग की परिभाषा कुछ अलग हुआ करती थी। अब इस तस्वीर को ही देख लीजिये। इतने टशन में तो इंसान Lamborghini में भी नहीं रहता, जितने टशन में विनोद खन्ना और श्रीदेवी इस ट्रेक्टरनुमा गाड़ी में बैठे हैं।

हम एक हमारी दो

इस तस्वीर में धर्मेंद्र की आँखें शायद ये कहना चाह रही हैं कि “साहब, ये दिल मांगे मोर!”

गार्डन में नाचते सुपर हीरोज

हॉलीवुड फिल्मों में सुपरहीरोज को विलन्स से लड़ने से फुर्सत ही नहीं मिल पाती लेकिन हमारे सुपरमैन और स्पाइडर वुमन इतने फुरसतिया थे कि गार्डन में नाचकर अपना टाइम पास करते थे।

हवा में उड़ता जाए रे, मेरा लाल दुपट्टा मलमल का

इस तस्वीर में सदी के महानायक न जाने क्यों गले में लाल दुपट्टा पहने हुए हैं। हो सकता है उन्हें उस वक्त ये कूल लग रहा हो मगर काश कोई उन्हें बता देता कि ये कितना ‘अन-कूल’ लग रहा था।

बचपन में छिपाकर रखी गई तस्वीर

ये तस्वीर विवेक ओबरॉय के पापा सुरेश ओबरॉय की है। बचपन में अगर इसे विवेक देख लेते तो बुरी तरह से डर जाते।

शुक्र है जो जमाना बदल गया

हो सकता है कि उस वक्त ऐसा फैशन लोगों को पसंद आता हो मगर हमारे लिए इसे पचा पाना काफी मुश्किल हो जाता। अगर आपको इन तस्वीरों ने गुदगुदाया तो इन्हें अपने करीबियों के साथ शेयर करना न भूलें।

Source

Post Author: Ankit khandelwal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *